भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Maanachitravijnan Paribhasha Kosh (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

ನಿಘಂಟಿನ ಪೀಠಿಕಾ ಪುಟಗಳನ್ನು ಓದಲು ದಯವಿಟ್ಟು ಇಲ್ಲಿ ಕ್ಲಿಕ್‌ ಮಾಡಿರಿ
शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें
Please click here to view the introductory pages of the dictionary

Atlas major

एटलस मेजर
विलियम जेंसजून ब्लायू (1571- 1638) के पुत्रों तथा पौत्रों द्वारा परिष्कृत एवं तैयार की गई “एटलस नोवस” का बड़ा खंड वॉल्यूम इसमें 12 बड़े बड़े फोलियो वॉल्यूम थे इसका अनुवाद भाषाओं मे किया गया था
An enlarged volume of ” Atlas Novus” prepared and finished by the sons and grandsons of William Junszoon Blaeu (1571- 1638). This contained 12 large folio volumes and was translated into several languages.

Atlas map

एटलस मानचित्र
बहुत छोटे माप पर तैयार किये गये मानचित्र जो पृथ्वी के विभिन्न प्रदेशों की भौतिक, जलवायवी तथा आर्थिक दशाओं का न्यूनाधिक सामान्यीकृत चित्र प्रस्तुत करते है
A Map drawn on a very small scale and give a more or less highly generalised picture regarding the physical climatic and economic conditions of different regions of the earth.

Atlas novus

एटलस नोवस
विलियम जेंसजून ब्लायू द्वारा सन् 1934 में तैयार की गई एटलस को दिया गया नाम।इसके छ: बड़े बड़े खंड थे। बाद मे इसको और अधिक प्रवर्धित किया गया और इसका नाम एटलस मेजर रख दिया गया।
The name given to the atlas prepared by William Jans Zoon Blaeu in 1634, and that had large six volumes.
This was later on enlarged and was given the name of “Atlas Major”.

Atlas page

एटलस पृष्ठ
मानचित्रावली पत्र का एक पृष्ठ जिस पर मानचित्र छपा होता है।
One face (1 rect or verso) of an atlas leaf on which a map has been printed.

Atlas style

एटलस शैली
मानचित्र पर नदियों को आरेखित करने की विधि, जिसमें लाइन की मोटाई अनुप्रवाह की और धीरे धीरे बढ़़ती है।
A Manner of drawing river: on a map wherein the thickness of line increases gradually down stream.

Atlas type

एटलस प्रकार
सामान्य लक्षण, जैसे विषय, उद्देश्य या प्रस्तुतिकरण विधि के अनुसार एटलस का वर्ग।
A Category of Atlas distinguished by a common characteristic, such as subject, purpose or mode of presentation.

Automated cartography

आटोमेटेड कार्टोग्राफी
वह मानचित्र जिसमें अभिकलित्र की सहायता ली जाती है
Computer assisted cartography

Automobile road map

मोटर सड़क मानचित्र
वह मानचित्र जिसमें स्वचलित वाहनों के मार्गों को प्राथमिक रूप से प्रदर्शित किया जाता है ।
Map showing primarily automobile routes.

Auxiliary point

सहायक बिन्दु
किसी सर्वेक्षक द्वारा प्लेन टेबुल सर्वेक्षण में ग्राफीय त्रिकोणीयन विधि से नियत किए गए पूरक नियंत्रण बिंदु ।
Supplementry control points fixed by a plane – table by graphic triangulation.

Auxiliary table

सहायक सारणी
पूर्व निर्धारित सारणी जो अभिकलन में प्रयुक्त होती है ।
Ready made table used as aid in computation.

Average slope

औसत ढाल
किसी भूमि के उच्चतम एवं निम्नतम स्थानों को मिलाने वाली रेखा के ढाल को औसत ढाल कहते हैं ।
The steepness of the line joining the highest point to the lowest point is known as average slope.

Average slope map

औसत – ढाल मानचित्र
किसी प्रदेश क औसत ढाल प्रदर्शित करने वाला मानचित्र ।
A map showing average slope of a region.

Axis of tilt

नति – अक्ष
वह स्थिर रेखा जिसके सहारे किसी वस्तु का कोणात्मक झुकाव होता है ।
A stable line which provides the angular dip to an object.

Azimuth

दियंश
किसी स्थान पर सर्वेक्षित रेखा तथा भौगोलिक उत्तर की दिशा में बना कोण ।
As appliled to a line it is the angle that the line makes with the true North.

Azimuthal equal area projection

दिगंशीय समक्षेत्र प्रक्षेप
जे. एच. लैम्बर्ट (1772) द्वारा रचित एक प्रक्षेप जो विशेषतः ध्रुवीय प्रदेशों के लिये उपयोगी है । इस प्रक्षेप में गोलार्द्ध का अर्द्धव्यास विषुवत रेखा और ध्रुव के मध्य कोटिज्य (सीकेंट) की लंबाई के बराबर होता है । ध्रुवीय प्रक्षेप में अक्षांश रेखाएं सकेंद्रित वृत और याम्योतर रेखाएं अरीय सीधी रेखाएं होती हैं । परन्तु विषुवत् रेखीय या तिर्यक प्रक्षेपों में ये दोनों प्रकार की रेखाएं चापाकार होती हैं । इसे लैम्बर्ट दिगंशीय समक्षेत्र प्रक्षेप अथवा समध्य समक्षेत्र प्रक्षेप भी कहते हैं ।
A projection devised by Sh. J.H. Lambert in 1772 which is generally used for polar regions. In this projection the radius of the globe is equal to the lengths of secant between equator and pole. In polar cases parallels are concentric circles and meriddians are radiating straight lines. But in equatorial and oblique cases both the parallels and the meridians are the arcs of circles. See – Lambert azimuthal equal area map projection or zenthal equal area map projection.

Azimuthal equidistant projection

दिगंशीय समदूरस्थ प्रक्षेप
वह दिगंशीय माचित्र प्रक्षेप जिस पर केन्द्र से दिशाएं और दूरियां शुद्ध होती हैं । अक्षांशों पर माप की अशुद्धि केन्द्र से दूरी बढ़ने पर बढ़ती जाती है । देशांतरों पर माप सही रहता है । यह प्रक्षेप न तो समक्षेत्र है और न ही अनुरूप है । इसे – खमध्य समदूरस्थ प्रक्षेप भी कहते हैं ।
An azimuthal map projection on which the directions and the distances from the centre are true. The scale along the parallels is much exaggerated and the error increases with distance from the centre. The scale along the miridians is, however, correct. It is neither equal area nor conformal. See : zenithal equidistant projection.

Azimuthal projection

दिगंशीय प्रक्षेप
एक प्रकार का मानचित्र प्रक्षेप, जिसमें ग्लोब के एक या संपूर्ण भाग को स्पर्शी तल पर प्रक्षेपित किया जाता है । यदि स्पर्शी तल ग्लोब को ध्रुव पर स्पर्श करे तो ध्रुवीय, और विषुवत् रेखा पर स्पर्श करे तो विषुवत् रेखीय और यदि इन दोनों के अतिरिक्त किसी अन्य बिंदु पर स्पर्श करे तो तिर्यक खमध्य प्रक्षेप कहलाता है ।
यह एक संदर्श प्रक्षेप है । यदि प्रकाश स्रांत ग्लोब के केन्द्र में स्थित हो तो नोमोनिक, स्पर्श बिंदु के प्रतिव्यासान्त पर स्थित हो तो स्टीरियोग्राफीय तथा यदि प्रकाश अनन्त से आ रहा हो तो यह प्रक्षेप आर्थोग्राफीय कहलाता है । इस प्रक्षेप के केन्द्र से सभी दिक् रेखाएं शुद्ध होती है । इसे खमध्य प्रक्षेप भी कहते हैं ।
A class of projection in which the globe is projected on to a plane touching at the Pole (Polar zenithal) at the Equator (equatorial zenithal) or anywhere between (oblique zenithal).
This is a perspective projection. If the source of light is in the centre of the globe, it is Gnomonic. If the source is antipodal to the point at which the plane is tangent it is stereographic, and if the source is infinity, it is orthographic. All bearings are true from the centre of the projection. This is also known as zenithal projection.

Aztec map

आज्टेक मानचित्र
आज्टेक लोगों द्वारा तैयार किये गये मानचित्र, जो अत्यन्त आकर्षक सुन्दर एवं अलंकृत हैं । इन मानचित्रों में स्थलाकृति ब्यौरों की बजाय ऐतिहासिक घटनाओं को अधिक अंकित किया गया है । नदियां, वन, खेत तथा मंदिर प्राकृतिक रूप में दर्शाए गये हैं । गांव के स्थलों पर नाम लिख दिये गये हैं ।
The maps prepared by Aztecs which are very attractive, beautiful and ornamented. In these maps historical events are recorded elaborately rather than the details of topography. Rivers, forests, fields and temples are thown as such. Names are written over the sites of villages.

Baby lonian map

बैविलोनियाई मानचित्र
सबसे प्राचीन ज्ञात मानचित्र जो इस समय हार्वर्ड विश्वविद्यालय के सेमाइटी संग्रहालय मे रखा हुआ है । यह मानचित्र वैविलोन से लगभग 320 किलोमीटर उत्तर में गासुर नामक ध्वस्त शहर की खुदाई के दौरान मिला था । मानचित्र एक पकी हुई ईंट के रूप में है । इसमें संभवता फरात नदी की घाटी दर्शाई गई है ।
The oldest known map now on exhibition in Semitic museum of Harvord university, was discovered in excavating the ruined city of Gasur about 320 km. north of Babylon. The map is in the shape of a baked brick. It shows the euphrate river valley.

Back bearing

पश्च दिक्मान
अग्र अवस्थान से पश्च अवस्थान का दिक्मान पश्च दिक्मान कहलाता है ।
The bearing of the previous station taken form the forward station.
Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App